संदेश

अप्रैल 29, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दिमाग की सेहत के लिए एक वरदान है ब्राह्मी।

चित्र
ब्राह्मी, भारत की प्राचीन जड़ी बूटी है। इसे तंत्रिका तंत्र और दिमाग तेज करने वाले औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है। आयुर्वेदिक उपचार में ब्राह्मी को मेध्‍यरसायन का नाम दिया गया है एवं इसका अर्थ है नसों के लिए शक्‍तिवर्द्धक के रूप में कार्य करने वाली तथा पुनर्जीवित करने वाले तत्‍व से युक्‍त।    ब्राह्मी ने तनाव को कम करने वाले तत्‍व के रूप में बहुत लोकप्रियता हासिल की है। पिछले 3000 वर्षों से भारतीय पारंपरिक औषधियों में ब्राह्मी का इस्‍तेमाल किया जा रहा है।  भारत के प्राचीन ग्रंथों चरक संहिता और सुश्रुत संहिता में भी इस जड़ी बूटी का उल्‍लेख किया गया है। सुश्रुत संहिता में ब्राह्मी घृत और ब्राह्मी को ऊर्जा प्रदान करने वाली बताया गया है। आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि ब्राह्मी शब्‍द ब्राह्माण या हिंदू देवता ब्रह्मा से लिया गया है। इसलिए ब्राह्मी का मतलब है ब्रह्मा की शक्‍ति। ब्राह्मी तंत्रिका तंत्र को शक्‍ति देती है। ब्राह्मी का पौधा रसीला होता है। ये जमीन पर फैला होता है, और इसमें अत्‍यधिक पानी को संग्रहित करने की क्षमता होती है।  ब्राह्मी के फूल सफेद, गुलाबी और नीले रंग के होते हैं।  ब्राह्

राजस्थानी गट्टे की सब्जी।

चित्र
क्या आपने कभी बेसन के गट्टे की सब्जी बनाई या खाई हैं, अगर नहीं तो आप भी अवश्य ट्राय कीजिए। बेसन के गट्टे (Rajasthani Besan ke Gatte) की सब्जी राजस्थान की स्पेशल डिश है, स्पेशल तो है ही और खाने में भी बहुत स्वादिष्ट है, आप भले ही राजस्थान में रहते हों या राजस्थान से बाहर आपको ये सब्जी बहुत पसंद आयेगी, स्वाद के मामले में एकदम हटके यह जायका खास तौर पर राजस्थान में बेहद पसंद किया जाने वाला और वहां का खास व्यंजन है। तो आइए देर किस बात की, आप भी लीजिए बेसन के गट्‍टे खाने का अनूठा आनंद। एक पाव बेसन एक पाव दही 150 ग्राम तेल कसूरी मेथी 1 छोटा चम्मच सबूत धनिया आधा छोटी चम्मच, (वैकल्पिक) सबूत सौंफ आधा छोटी चम्मच, (वैकल्पिक) अजवाइन एक चौथाई चम्मच हल्दी 1 छोटी चम्मच लाल मिर्च पाउडर तीन छोटी चम्मच धनिया पाउडर एक छोटी चम्मच नमक आवश्यकता अनुसार लहसुन अदरक का पेस्ट छोटी तीन चम्मच एक प्याज मीडियम साइज दो हरी मिर्ची हींग एक चुटकी गरम मसाला छोटी एक चौथाई चम्मच सबसे पहले गैस पर डेड लीटर गर्म पानी रख दें, एक परात में बेसन ले उसमें थोड़ी कसूरी मेथी, साबुत दरदरा कुटा हुआ सौंफ और धनिया, थोड़ी सी अजवाइन, थोड