संदेश

अप्रैल 14, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राजस्थानी लोकोक्तियां, मुहावरे 1

चित्र
कहावतें एवं मुहावरे का उपयोग हम सभी कभी ना कभी जरूर करते है। कहावतें आपकी भाषा को सशक्त बनाने में मदद करती है, लोकोक्तियों एवं मुहावरों का प्रयोग करके हम अपनी बात को आसानी से समझा सकते हैं। इनका कोई बुरा नहीं मान सकता। यह कहावतें कम शब्दों में बहुत कुछ कहने का अर्थ बताती है। हमने बचपन से कई कहावते सुनी है, जैसे आ बैल मुझे मार, आम खाने हैं या पेड़ गिनने ऐसी कई और भी कहावतें है, हम आपको अनेकों पोस्ट में अधिक से प्रसिद्ध मारवाड़ी और हिंदी कहावतें एवं उनके अर्थ आपको बताने वाले है। चलो पड़ना सुरू करें। आळस नींद किसान न खोव , चोर न खोव खांसी , टक्को ब्याज मूळ न खोव , रांड न खोव हांसी।   अर्थ - किसान को निद्रा व आलस्य नष्ट कर है , खांसी चोर का काम बिगाड़बिगाड़ देती है , ब्याज के लालच से मूल धन भी डूब जाता है और हंसी मसखरी विधवा को बिगाड़ देती है।  जाट र जाट, तेरै सिर पर खाट, मियां र मियां , तेरै सिर पर कोल्हू, 'क तुक जँची कोनी, 'क तुक भलांई ना जंचो , बोझ तो मरसी।   अर्थ - एक मियाँ ने जाट से मजाक में कहा की जाट, तेरे सिर पर खाट। स्वभावतः जाट ने मियाँ से कहा की,मियाँ! तेरे सिर पर कोल्हू।मि

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ क्या है ? इसकी स्थापना कब हुई ?

चित्र
साइट पर जाएं Join RSS राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का प्रमुख उद्देश्य लोगों को सनातन धर्म के बारे में पूरी जानकारी देना और उन्हें जागरूक करके धर्म के साथ जोड़ने का होता हैं। इसके साथ ही यह संघ देश में सामाजिक, आर्थिक, नागरिक, पर्यावरण और अन्य सभी चुनौतियों का सामना करते हुए उनका समाधान करने का काम करता है। जब आरएसएस का संघठित किया गया था, तो उस समय इसमें केवल 17 लोग ही शामिल हुए थे परन्तु, वर्तमान समय में इस संघ के साथ सम्पूर्ण भारत के लाखों लोग है। संंघ का नामकरण    इस संघ का नामकरण करने से पहले इस पर काफी विचार- विमर्श किया गया कि, इस संघ का क्या नाम तय किया जाए, जिसके लिए तीन नामो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, जरीपटका मंडल और भारतोद्वारक मंडल का सुझाव दिया गया। संघ नामकरण के समय वहां पर 26 सदस्य मौजूद थेे। इसके बाद विचार-विमर्श किया गया और वहां मौजूद लोगों से वोटिंग कराई गयी थी, जिसमें से 26 सदस्यों में 20 वोट राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पक्ष में थे , और 6 वोट अन्य दोनों नाम के लिए किये गए थे। इसलिए इस प्रकार से संघ का नाम राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ रखा  गया था। संघ की स्थापना सं

भारत की क्रिप्टो करेंसी कौन सी है ?

चित्र
 आज हम आपको भारतीय क्रिप्टोकरेंसी के बारे में बताएंगे, आपको बता दें इस समय भारत सरकार के शीतकालीन सत्र के दौरान एक नया क्रिप्टो करेंसी विधेयक (Cryptocurrency Bill) प्रस्तुत करने की योजना बनाने के बारे में समाचार काफी सुर्खियों में है, इसके बाद से ही भारत में क्रिप्टो करेंसी के बारे में इंटरनेट पर खूब सर्च किया गया। भारत की क्रिप्टो करेंसी कौन सी है | आपको बता दें भारत सरकार भी अपनी क्रिप्टो करेंसी को बहुत जल्द लाने वाली है जिसका नाम CBDC – सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी के नाम होंगा. भारत में पॉलीगॉन क्रिप्टो करेंसी (Polygon Cryptocurrency) पहलें से ही पिछले हफ्ते मार्केट कैप के लिहाज से 10 अरब डॉलर को पार कर गई है इस समय इसका मार्केट केपिटलाइजेशन 11 अरब डॉलर पर पहुंच गया है इसके साथ ही पॉलीगॉन ने दुनिया के टॉप 20 क्रिप्टो करेंसी की सूची में जगह बना ली है, वहीं इन दिनों जियो कॉइन काफी सुर्खियों में है चलिए जानते हैं इन सभी भारतीय Cryptocurrency के बारे में । भारत की क्रिप्टो करेंसी कौन सी है। 1 CBDC (सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी) CBDC: सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी RBI भी अपनी Digital Currency