संदेश

अप्रैल 10, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पुदीना के फायदे और नुकसान।

चित्र
पुदीना का पौधा की कई प्रजातियां होती हैं, लेकिन औषधि और आहार के लिए मेंथा स्पीक्टा लिन्न( Mentha spicata Linn.) का ही प्रयोग किया जाता है। इस पुदीने को पहाड़ी पुदीना भी कहा जाता है। क्योंकि यह पहाड़ी इलाके में अधिक होता है। आयुर्वेद के अनुसार, पुदीना (dried mint) कफ और वात दोष को कम करता है, भूख बढ़ाता है। आप पुदीना का प्रयोग मल-मूत्र संबंधित बीमारियां और शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए भी कर सकते हैं। यह दस्त, पेचिश, बुखार, पेट के रोग, लीवर आदि विकार को ठीक करने के लिए भी उपयोग में लाया जाता है। अन्य भाषाओं में पुदीना के नाम। पुदीना का पौधा का वानास्पतिक नाम (botanical name of mint)) (Mentha spicata Linn. (मेन्था स्पाइकेटा) Syn-Mentha viridis Linn. है, और यह Lamiaceae (लेमिएसी) कुल का है। पुदीना को दुनिया भर में अनेक नामों से जाना जाता है, जो ये हैं। संस्कृत-पूतिहा, रोचिनी, पोदीनक (rochini, podinak) हिंदी-पहाड़ी पुदीना, पुदीना (pahari Pudina, pudina) गुजराती-फूदिनो (pudino) तेलुगू-पुदीना (pudina) तमिल-पुदीना (peppermint leaves in tamil) बंगाली-पुदीना (Pudina) नेपाली-बावरी (Bawri) पंजाब