संदेश

मई 25, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हवा-मिट्टी में रहता है ब्लैक फंगस, देशभर के डॉक्टर्स ने दी गाइडलाइन- कैसे करें पहचान, बचाव और इलाज

चित्र
 देश के कई राज्यों में म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस नई दशहत के रूप में सामने आया है। रोजाना इसके नए मामलों ने चिंता बढ़ा दी है। ऐसे में थोड़ी सतर्कता बरतकर हम इस फंगस से खुद को बचा सकते हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की तरफ से जारी एडवाइजरी आपके बेहद काम की हो सकती है। आइए जानते हैं कि ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस क्या है, इसके लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है। ब्लैक फंगस कोरोना मरीजों में फैल रहा, व्हाइट  फंगस किसी को भी हो रहा है। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के बीच ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है. ये दोनों ही बीमारियां कोरोना से ज्यादा जानलेवा मानी जा रही हैं. कई राज्यों में ब्लैक फंगस को महामारी भी घोषित किया जा चुका है, लेकिन व्हाइट फंगस भी किसी महामारी से कम नहीं है. आखिर ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस में क्या अंतर है? और व्हाइट फंगस ब्लैक फंगस से कितना खतरनाक है? आइए जानते हैं। क्या है ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस में अंतर?  अभी तक जो पता चला है उस हिसाब से ब्लैक फंगस कोरोना के उन मरीजों में पाया गया है जिनको बहुत ज्यादा स्टेरॉयड दिए गए, जबकि व्हाइ