संदेश

मार्च 5, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सोयाबीन हलवा कैसे बनाए ? soya bean halwa

चित्र
हम सभी जानते हैं कि सोयाबीन हमारी सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें प्रोटीन,लौह,कैल्शियम,मैग्नीशियम,जिंक,ओमेगा-3 वसा और विटामिन बी जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो हमारे शरीर को अंदर से मजबूत बनाते हैं। इसके अलावा सोयाबीन की तासीर गर्म होती है जिससे इससे बने पकवान सर्दियों में खाना पसंद करते हैं।  सोयाबीन हलवा बनाने की सामग्री 15 से 20 लोगो के लिए। सोयाबीन 500 ग्राम 8 घंटे भीगी हुई 500 ग्राम देसी घी सुगर (चीनी) 500 ग्राम, (मावा नहीं डालना है तो 350 ग्राम चीनी डालें:) दूध का मावा (खुवा) 500 ग्राम  इलायची 8 फीस का पाउडर इच्छानुसार ड्राई फ्रूट सोयाबीन हलवा बनाने की विधि भीगी सोयाबीन को अच्छे से साफ करें, और मिक्सी में दरदरा पीस लें, कड़ाही में घी डालें, गैस पर रखकर ऑन करें, घी पिघल जाने पर गैस को स्लो (कम) कर ले, और दरदरा पिसा सोयाबीन का मिश्रण डालें, अब ध्यान दे आपको रेगुलर चलाते रहना हैं गैस को जहां तक हो कम रखें बीच-बीच में फुल करते रहे। बादाम कलर होने तक सेक ले पकने के बाद गैस से उतार ले,  आप अगर मावा नहीं डालना चाहते हैं तो ना डालें अन्यथा मावा डाल दे अब दूसरी कढ़ाई म

सोयाबीन का दूध किस तरह बनाएं ? Soybean milk..& pratha

चित्र
सोयाबीन  दूध किस तरह बनाएं ? अगर आपने पहली बार सोयाबीन दूध के बारे में सुना है तो आप आज एक नई जानकारी प्राप्त कर रहे हां यह सच है सोयाबीन से दूध बनता है इसकी सब्जियां भी बनाई जाती है इसका पनीर बनाया जाता है क्रीम भी बनाई जाती है सोयाबीन से अनेकों तरह की मिठाइयां भी बनती है सोयाबीन  दूध बनने की सामग्री। 200 ग्राम  सोयाबीन पनी दूध के लिए । नोट:-अगर दूध आपको गाडा चाहिए तो डेढ़ लीटर पानी डालें अन्यथा पतला दूध के लिए ज्यादा पानी भी डाल कर सकते हो   सोयाबीन दूध बनाने की विधि।   200 ग्राम सोयाबीन रात को भिगोकर रख दें सुबह सोयाबीन के छिलके हटा ले हाथ से मसल मसल कर अच्छी तरह से साफ कर ले फिर मिक्सी में ग्रैंड करें बारिक करना है।  फिर उसमें डेट लिटर के करीब पानी मिक्स करके भगुने में गैस पर गरम करें और चलाते रहें, अगर आप नहीं चलाते है तो सोयाबीन के कण नीचे चले जाते हैं, और चिपक जाएंगे इसलिए रेगुलर चलाना है, जब दूध गर्म हो जाए तब गैस बंद कर दे और भगुने को गैस से अलग रख दें थोड़ी देर ठंडा होने के बाद दूध को स्वच्छ कपड़े की सहायता से या चलने की सहायता से छान लें उसका पल्प (गुदा) निकल