MSME क्या है ? MSME में Online Registration कैसे करें ?

 आज के इस Hindi Blog में हम MSME क्या है – MSME का Full Form क्या है! और MSME में Online Registration कैसे करें? के विषय में विस्तार जानेंगे! विशेष रूप से हमारे देश का विकास मध्यम स्तर के उद्योगों, लघु उद्योगों और कुटीर उद्योगों पर निर्भर करता है!

सरकार द्वारा चलाई जा रही वित्तीय सुविधाओं का लाभ पाने के लिए में आपकी फर्म का MSME में रजिस्टर्ड होना बहुत आवश्यक है। भारत की पूरी अर्थव्यवस्था MSME के अनेक उद्योग इकाइयों से जुड़ी होती है! प्रत्येक राज्य की अर्थव्यवस्था छोटे कारखानों पर ही आधारित होती है!

आज हम आपको एक महत्वपूर्ण जानकारी की ओर ले जा रहे हैं। अगर आप कोई भी छोटा व्यवसाय करते हैं तो यह आपके लिए सुनहरा मौका है। आप निशुल्क MSME में अपने व्यवसाय या अपनी फर्म का Registration करके सरकार की तमाम वित्तीय benefits पा सकते है। आप जो भी व्यवसाय करते है वह पूर्ण रूप से क़ानूनी प्रकिया के अंदर आना चाहिएै।

जैसा की आप जानते हैं, कोरोना महामारी के इस अंतराल में भारत के प्रधानमंत्री ने 12 मई को देश के लिये एक विशेष पैकेज का एलान किया था, जिसमें 20 लाख करोड़ की धनराशि का एलान किया गया। भारत की वित्त मंत्री ने इसको अलग अलग विभागों में बांटा, जिसमें MSME को सबसे उच्च स्थान पर रखा गया, MSME का मतलब है छोटे उद्योग, सूक्ष्म उद्योग, या फिर लघु उद्योग!

एमएसएमई का फुल फॉर्म क्या है – Full Form of MSME in Hindi

MSME Full Form: MSME का Hindi में Full Form ” Micro Small And Medium Enterprises ” है! इसका हिंदी अर्थ सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग होता है!

एमएसएमई क्या है ? – MSME Kya Hai in Hindi

यह भारत सरकार द्वारा लागु किया गया अधिनियम है इसके अंतर्गत देश भर के छोटे से लेकर बड़ी कम्पनियां जैसे बड़ी मीलें, फैक्ट्रियां, पेपर उद्योग, कल- कारखाने। हमारी जो Economy Activities हैं इसका मतलब क्या हुआ, इसका मतलब हुआ जो हम रोजगार के साधन हैं या फिर कमा ने का जरिया है, इसको Economy Activities कहते हैं।

इसको तीन Sectors में बांटा गया है!

1 – Primary Sector

इस Sector में प्राथमिक कार्यों के विकास को रखा गया है इसमें कृषि का कार्य आता है।

2 – Secondary Sector

इस Sector में उत्पादन(Manufacturing) का काम आता है जैसे मोबाईल,कार, बिजली के सामानों का उत्पाद आदि।

3 – Tertiary Sector

इस Sector में Services Sector आते हैं। जैसे यातायात(Transportation), दूरसंचार(Telecom services), खाने सर्विस(Food services)

सरकार ने करीब 3 लाख करोड़ का बजट MSME को दिया गया है। इसके अंतर्गत आने वाले उद्योग या नए व्यवसायी जो शुरुआत करना चाहते हैं 31 अक्टूबर 2020 से ऋण लेना प्राारम्भ हो चुका जिन्हें करीब 45 लाख MSME कंपनियोंं को  फायदा होगा। इसमें सूक्ष्म, लघु, और मध्यम उद्योग आएंगे। Loan बिना गारंटी के भी मिलेगा जिसमे 1 साल तक कोई ब्याज नहीं लिया जायेगा।

एमएसएमई में Online Registration कैसे करें – MSME Ragistration in Hindi

MSME में Registration के लिए सरकार द्वारा एक Online Portal जारी किया गया हैं। जिसकी मदद से छोटे मध्यम व्यापारी वर्ग के भाई बड़ी आसानी से MSME में अपना Registration कर सकते हैं। सरकार की यह एक बिलकुल निशुल्क प्रक्रिया है।

MSME में Registration fees

लेकिन ध्यान देने की बात ये है कि MSME में Registration के लिए और भी बहुत सारे गैर सरकारी Online Portal लोगो द्वारा बना दिए गए हैं जहा से यदि आप MSME में Registration कराते हैं तो आपसे Registration fees के नाम पर पैसा लिया जाता हैं। जबकि यह बिलकुल निशुल्क प्रक्रिया है।

सरकार द्वारा जारी MSME Registration Online पोर्टल से बिना किसी fees के रजिस्ट्रेशन करने के लिए निचे बटन पर क्लिक कीजिये!

MSME Registration Process in Hindi

वास्तव मे MSME में Registration की Process बहुत आसान हैं आप निचे दिए गए Steps को फॉलो करके बड़ी आसानी से MSME में Registration की process को पूरा कर सकते हैं!

Step. 1 ऊपर दिए गए बटन में क्लिक करने के बाद आपको बाई तरफ दो Option दिखाई देंगे। पहले में अपना आधार कार्ड संख्या और दूसरे में उद्यमी का नाम भरें! और निचे दिए गए Validate & Generate OTP वाले बटन पर क्लिक करे !

Step. 2 इसके बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी जनरेट होगा उस OTP को एंटर करके Validate बटन पर क्लिक करें ।

Step. 3 Successfully validate होने के बाद आगे आपको एक नया फार्म खुलेगा। जिसे आपको ध्यान पूर्वक भरना है !

Step. 4 इसमें आपको श्रेणी से सभी जानकारी भरनी होगी! जैसे श्रेणी, लिंग, शारीरिक रूप की चुनोतियाँ, उद्यमी का नाम,फर्म का नाम, व्यवसाय का नाम, सूचीबद्ध तरीके से संगठन के नाम आपको चुनना होगा पैन नम्बर के स्थान पर आप पैन कार्ड नीचे पंजीकरण करना होगा !

Step. 5 आपको अपनी कम्पनी का नाम, कारखाने का पता लिखना होगा। आगे अपना पता, फर्म का पता, मोबाईल नम्बर, दर्ज करना होगा। इसके बाद व्यवसाय शुरू करने की तारीख डालें जब से आपने व्यवसाय शुरू किया था !

Step. 6 आगे आपने किसी प्रकार के फार्म के लिए आवेदन किया है या ईएम 1 / ईएम 2 / एफएसआई / यूएएम / के लिए आवेदन किया हो तो दर्ज करें, अगर आप पहली बार आवेदन कर रहे हों तो ऐसा दर्ज करें !

Step. 7 उसके बाद आप बैंक खाता जानकारी, आईएफएससी कोड, दर्ज करें, इसके बाद आप फर्म का मुख्य काम, विनिर्माण, या कोई सेवा दें रहे हैं, जिनका चयन करें और भरें !

Step. 8 इसके बाद दिये गए 3 बॉक्स में अपना एन आई सी कोड प्राप्त कर सकते हैं!

अब आप फार्म को जमा कर दें! MSME संख्या आपको प्राप्त हो जायेगी। यह MSME Certificate सरकार द्वारा आपके ईमेल और डाक पते पर आपको भेज दिया जायेगा !

MSME में लोन कितने तक का मिलेगा ?

सरकार ने इसमें सूक्ष्म उद्योग को 10 से 25 लाख तक लोन देने का प्रावधान रखा है ! सरकार ने इसे इन्वेस्टमेंट और टर्नओवर के हिसाब से विभाजित किया है !

सूक्ष्म उद्योग /Micro industries

विनिर्माण क्षेत्र में उद्योगों / कंपनियों और सेवा क्षेत्र के लिए 10 लाख के लिए निवेश 25 लाख से अधिक नहीं है !

छोटे उद्योग / Small industries

विनिर्माण क्षेत्र में उद्योगों / कंपनियों और सेवा क्षेत्र के लिए 2 करोड़ के लिए निवेश 5 करोड़ से अधिक नहीं है।

मध्यम उद्योग / Medium industries

विनिर्माण क्षेत्र में उद्योगों / कंपनियों और सेवा क्षेत्र के लिए 5 करोड़ के लिए निवेश 10 करोड़ से अधिक नहीं है !

MSME में Registration के लिए जरूरी दस्तावेज

भूमि के स्वामी होने के दस्तावेज, सम्पति की रसीद या जमीन की खाता खतौनी संख्या। (Proof of ownership property/ Rent Agreement)

मालिक या पार्टनशिप कर्मी की पासपोर्ट साइज तीन फोटोग्राफ (Three passport size photographs of owner)

मालिक या पार्टनशिप कर्मी का पैन कार्ड और आधार कार्ड (Pan Card and Adhaar Card of Proprietors)

ई मेल आईडी, मोबाईल नम्बर मशीनों के निवेश सम्बंधी दस्तावेज, मशीनों की कुल राशि के प्रमाण। (Declaration required Amount of Investment in Machinery)

MSME कौन से एक्ट के अंतर्गत निहित है ?

हमारे संविधान में एक एक्ट बनाया गया, MSMED, Act 2006 इसके अंतर्गत कौन सी कंपनी कितना व्यापार करेगी, कितना उत्पादन करेगी, इस तरह से इनको एक प्रारूप में बांटा गया !

Manufacturer Enterprise

1. Micro Rs 2,500,000

2. Small Less than- Rs 50,000,000

3. Medium Less than – Rs 100,000,000

Services Enterprises

1. Micro Less than – Rs 10,00,000

2. Small Less than – Rs 20,000,000

3. Medium Less than – Rs 50,000,000

पहले सरकार ने इनको इन भागों में बांटा था। जिनमें इस प्रकार न की धनराशि बांटी गई उनमें बड़ी मशीनों का ज्यादा प्रयोग होता था। 

आज वित्त मंत्री ने अब इसका नया प्रारूप बना दिया है। पुराने प्रारूप के अनुसार की कई कम्पनियाँ खुद को छोटा दिखाती थी, और फायदे की सोचती थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा !

MSME में Registration के Benefits

MSME Registration Benefits in Hindi: ध्यान देने की बात ये है कि यदि आप अपनी कंपनी या फर्म का MSME में Registration कर देते हैं तो आप भी अन्य Registered कंपनियों की तरह MSME में Registration के सारे benefits अर्थात फायदे प्राप्त कर सकते हैं, तो आईये जानते हैं की ये MSME Registration benefits क्या – क्या हैं ?

इसके अंदर उद्योग मालिकों, कम्पनियों को कम Interest Rate पर ब्याज दिया जाता है।

उद्योग को Tax में छूट दी जाती है!

सरकार द्वारा जो भी टेंडर खुलते हैं पहले MSME कंपनियों को दिए जाते हैं।

MSME के अंतर्गत आने वाली कम्पनियों को लाइसेंस जल्दी मिल जाता है।

विनिर्माण क्षेत्र के निर्माण, उत्पादन क्षेत्र की आरक्षण नीतियाँ !

MSME देश के लिए महत्वपूर्ण क्यों है ?

हमारे देश में 45% रोजगार MSME के अंतर्गत जो company आती है उनसे उपलब्ध होता है !

50% exporting का काम इन्हीं कंपनियों से किया जाता है !

भारत के 95% कारखाने MSME के अंतर्गत आते हैं !

देश भर में 6000 से ज्यादा उत्पादन वाली कंपनियां इसी के अंतर्गत आती है ! 

ध्यान रहे की MSME में Registration के लिए किसी भी प्रकार की कोई fees नहीं देनी होती हैं! भारत सरकार की यह एक बिलकुल फ्री योजना हैं ।

इसके अंतर्गत आप कोई भी व्यवसाय शुरू कर सकते हैें। जिसकी शुरुआत आप छोटी इकाई से भी कर सकते हैें।

हम आशा करते हैं आपको MSME के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला! इस पोस्ट से संबधित कोई विचार और सुझाव हो तो कृपया निचे कमेंट करके जरूर अवगत कराये। और यदि पोस्ट अच्छी लगे तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों में अवश्य शेयर कीजिये, आपका दिन शुभ हो धन्यवाद।

Previous
Next Post »