नींबू सत (साइट्रिक एसिड) क्या है ? जाने इसके फायदे और नुकसान

  किसी भी तरह का प्रोडक्ट खरीदने के लिए आप सर्च बार में लिखें और Go बटन पर क्लिक करें। आपके सामने आपके प्रोडक्ट होंगे।  खट्टे फलों में प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला साइट्रिक एसिड आर्टिफिशयल या मैन्यूफैक्चर्ड साइट्रिक एसिड से अलग होता है। मैन्यूफैक्चर होने वाले साइट्रिक एसिड को नींबू सत, टाटरी या नींबू का फूल भी कहा जाता है जो सफेद रंग का और बेहद दरदरा (चीनी से भी बारीक) कण वाला होता है। खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों को खट्टा स्वाद देने के लिए इसे पानी में मिलाकर डाला जाता है। 

आप सोच रहे होंगे कि आखिर नैचरल और मैन्यूफैक्चर्ड साइट्रिक एसिड में अंतर क्या है और इसका इस्तेमाल करना आपकी सेहत के लिए अच्छा है या बुरा। तो इस आर्टिकल में हम आपको बता रहे हैं कि साइट्रिक एसिड क्या है, इसका उपयोग कहां और कैसे होता है और यह सेहत के लिए फायदेमंद है या नुकसानदेह।

साइट्रिक एसिड या नींबू का फूल अलग-अलग तरह के सलाद, चटनी जैसी चीज़ों में मिलाया जाता है। यह सफेद रंग का पावडर एक नैचुरल टार्ट युक्त पदार्थ है जिसका स्वाद खट्टा होता है।इसकी कोई सुगंध या स्वाद नहीं होता लेकिन इससे आपके खाने में स्वाद आ जाता है। इसे फलों के रस से निकालकर सफेद पाउडर में परिवर्तित किया जाता है। इसका इस्तेमाल ऐसे खाद्य पदार्थों को संग्रहित करने के लिए किया जाता है जो विटामिन सी भरपूर होते हैं। यह तरल पदार्थों में आसानी से घुल जाता है। यह एक नैचुरल प्रीज़र्वेटिव की तौर पर लम्बे समय से इस्तेमाल किया जाता रहा है, लेकिन इसके सेवन से जुड़ी कुछ सावधानियां भी बरतना ज़रूरी है। ज़्यादा यूरिेनेशन की वजह हो सकती है आपकी यह एक आदत !

कुछ लोगों को नींबू का फूल खाने के बाद पेट में परेशानी महसूस होने लगती है। कई लोग साइट्रिक एसिड वाली चीज़ों के सेवन के बाद में जलन की शिकायत करते हैं इसीलिए पहले जांच लें कि आपको यह पदार्थ सूट करता है या नहीं।

साइट्रिक एसिड प्रीज़र्वेटिव की तरह इस्तेमाल होता है और कई बार कुछ चीज़ों में बहुत अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए साइट्रिक एसिड वाली चीज़ें खरीदते समय ध्यान से फूड लेबल पढ़ें। अगर साइट्रिक एसिड का प्रतिशत बहुत अधिक लगे तो उस चीज़ का सेवन ना करें।

लेकिन इन सबके बावजूद साइट्रिक एसिड या नींबू के फूल का सेवन आपकी सेहत के लिए कई तरीकों से फायदेमंद साबित हो सकता है।

नैचुरल साइट्रिक एसिड एक अच्छे एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है, जिसका मतलब है कि यह आपके शरीर को फ्री-रैडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाता है। पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट मिलने से आपके दिल की सेहत अच्छी रहती है और कैंसर से बचने में भी मदद होती है।

नैचुरल साइट्रिक एसिड खट्टे फलों में मिलता है। इसीलिए संतरा या नींबू पानी जैसी चीज़ों का भरपूर फायदा पाने के लिए आप इन चीज़ों पर थोड़ा-सा साइट्रिक एसिड पावडर छिड़क कर सेवन कर सकते हैं।

निंबूसत क्या-क्या काम आता है ?

नींबू का फूल ना सिर्फ स्वाद प्रदान करते है, साथ ही खाने को गाढ़ा बनाने मे भी मदद करता है। टमाटर आधारित खाद्य पदार्थ नींबू के फुल को कॅन्ड टमाटर को कड़ा बनाने के साथ-साथ उसमे एसिड कि मात्रा कम कर कॅनिंग के वक्त वंध्यीकरण मे मदद करते है।

कॅन्ड फलो का रंग गहरा होने से बचाते है।

घर पर पनीर बनाने के लिये दूध को फाड़ने मे इसका प्रयोग किया जाता है।

लगभग सभी कॅन्डी जैली और गमीस् में इसके फळों के स्वाद को उभारने के लिये प्रयोग किया जाता है। खट्टे गमीस् मे हटकर अधिक मात्रा मे नीँबूसत मिलाया जाता है, जो इन्हे खट्टा स्वाद प्रदान करते है, और यह खास रुप से नींबूसत से ढ़के जाते है।

नींबूसत लैमोनेड, जैम, मीठे व्यचजन और मिठाई जैसे खादय पदार्थ को अनोखा खट्टा स्वाद प्रदान करता है।

इसका तेल और पौष्टिक वसा के स्थिरीकरण और सब्ज़ी और फल के संग्रहण में मुख्य भूमिका होती है।

यह कुछ पेय पदार्थ, खासतौर पर शीतल पेय मे मिलाया जा सकता है।

संग्रह करने के तरीके

हवा बन्द डिब्बे मे रखकर ठंडी और सूखी जगह पर रखें।

इसके गुण तत्व को बचाने के लिये नमी से दूर रखें।

निंबूसत के नुकसान।

कुछ व्यक्ति को नींबू सत नही पचता, इसलिये उन्हे इसका प्रयोग नही करना चाहिए क्योंकि इससे पेट मे जलन हो सकती है। लेबल ध्यान से पढ़ें, क्योंकि नींबू के फूल अपके अनुमान से भी बहुत ज़यादा खाद्य पदार्थो मे संग्रहण पदार्थ के रुप मे मिलाया जा सकता है।

नींबू सत जब लंबे समय तक आपकी त्वचा को छूता है, तो यह त्वचा में चुभन, सूजन या पित्ती का कारण बन सकता है। 

नींबू सत आंखों में चला जाए तो आंखों में जलन होने लगती है। यदि ऐसा हो तो आंखों को पानी से कुछ मिनट के लिए अच्छी तरह से धोएं। यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो जितनी जल्दी हो सके उन्हें उतार दें।

पेय पदार्थ और कैंडीज में मौजूद नींबू सत (साइट्रिक एसिड) दांतों के इनैमल यानी बाहरी परत को खराब कर सकता है जिस कारण आपके दांत अधिक संवेदनशील बन जाते हैं, उनमें पीलापन आ जाता है और कैविटीज का खतरा भी बढ़ जाता है।

अगर आप नींबू सत (साइट्रिक एसिड) युक्त किसी दवा का सेवन करते हैं तो आपको जी मिचलाना या उल्टी आना जैसे दुष्प्रभाव का भी सामना करना पड़ सकता है।

यह जानकारियां अन्य जगहों से इकट्ठा करके आपको बताई गई है इसे उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर रखें, धन्यवाद।

Previous
Next Post »