संदेश

मार्च 30, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सफेद मूसली के फायदे व नुकसान

चित्र
सफेद मूसली एक बहुत ही उपयोगी पौधा है, जो कुदरती तौर पर बरसात के मौसम में जंगल में उगता है इसकी उपयोगिता को देखते हुए इसकी कारोबारी खेती भी की जाती है।    सफेद मूसली की कारोबारी खेती करने वाले राज्य हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, महाराष्ट्र, उड़ीसा, तमिलनाडु, केरल व वेस्ट बंगाल आदि राज्यों में होती है।  सफेद मूसली की जड़ों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक और यूनानी दवाएं बनाने में भी किया जाता है।        सफेद मुसली की सूखी जड़ों का इस्तेमाल  यौनवर्धक, शक्तिवर्धक और वीर्यवर्धक दवाएं बनाने में किया जाता हैं। इसकी इसी खासियत के चलते इसकी मांग पूरे साल बनी रहती है। जिसका अच्छा दाम भी मिलता है। सफेद मूसली में खास तरह के तत्व पाए जाते हैं जैसे सपोनिन और सेपोजिनिन इन्ही तत्वों की वजह से ही सफेद मुसली एक औषधीय पौधा कहलाता है।  सफेद मूसली सालाना पौधा है जिस की ऊंचाई तकरीबन 40-50 सेंटीमीटर तक होती है और जमीन में घुसी मांसल जड़ों की लंबाई 8-10 सेंटीमीटर तक होती है।  यौन वर्धक शक्तिवर्धक और वीर्य वर्धक दवाएं सफेद मूसली की जड़ों से ही ब