संदेश

मार्च 20, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कोरोना वायरस को लेकर अनेक भ्रांतियां क्या सही है, क्या गलत है।

चित्र
चीन में पहली बार जब कोरोनावायरस का मरीज मिला तो वैज्ञानिक और डॉक्टर भी हैरान रह गए क्योंकि इससे पहले ऐसी बीमारी से उनका सामना नहीं हुआ था इस तरह आम लोगों के लिए भी कोरोना बीमारी नई बीमारी रही इस दौरान भारत में सोशल मीडिया पर इससे जुड़ी कई बातें जारी हुई इसमें कुछ सही है तो कुछ भ्रामक जानिए इनके बारे में 1 सर्दी जुखाम का मतलब कोरोना है ?     ऐसा बिल्कुल नहीं है। सर्दी जुकाम खांसी और बुखार कोरोना वायरस के लक्षण नहीं हैं। कोरोना वायरस के लक्षण विशेष रूप से तेज बुखार और सांस लेने में तकलीफ बढ़ने को माना जाता है। सर्दी जुखाम को नहीं।          लेकिन किसी का ऐसा हो रहा है तो इसका मतलब यह नहीं कि उसे कोरोना ही हुआ है प्रदूषण के कारण भी सूखी खांसी होती है सामान्य फ्लू में बलगम वाली खांसी और बुखार सामान्य है हां यदि सर्दी-जुकाम और तेज बुखार लंबे समय से है तो डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए। 2 पालतू जानवर को भी हो सकता है कोरोनावायरस ?         सच है चीन में ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जब पालतू कुत्तों और बिल्लियों में यह संक्रमण पाया गया मालिकों ने उन्हें मार दिया चीन से कई ऐसी तस्वीरे

इस तरह बनाएं गिलोय का मिश्रित काढा

चित्र
हमारे चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें। गिलोय का उपयोग आप भी करें और दूसरों को भी करवाएं और इसकी लता अपने घर या खेत में लगाएं जहां भी आपको खाली स्थान दिखे पेड़ के नीचे या और कहीं लगाए और इसका इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करें करवाएं मगर ध्यान दें इस का ज्यादा सेेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है किसी बीमारी से जूझ रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह अनुसार उपयोग करें और स्वस्थ भारत निर्माण में सहयोग करें। धन्यवाद

इस तरह बनाएं गिलोय का सादा काढ़ा।

चित्र
हमारे चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें। गिलोय का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करें इसको अपने घर या खेत में कहीं भी लगाएं और इसका उपयोग करें। गिलोय का ज्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह अनुसार इसका उपयोग करें और हमारे भारत को स्वस्थ बनाने में मदद करें।                                     धन्यवाद