कोरोना से भी घातक है रोड एक्सीडेंट जाने कैसे।


 


अनजाने में पता नहीं क्या कर जाते हैं यह सही है कि लोग कोरोना वायरस के खौफ से डरे हुए हैं। डरना लाजमी भी है क्योंकि यह खतरनाक रोग है।
    लोग कोरोनावायरस से इतना डरते हैं, जबकि कोरोना से ज्यादा रोड एक्सीडेंट में लोग मारे जाते हैं।
      भारत में कोरोना से लगभग 8 लोग मारे गए हैं जबकि एक्सीडेंट मैं प्रति वर्ष 1.35 मिलियन से अधिक लोगों की मृत्यु हो जाती है।



मई 2019 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 5 वें वैश्विक सड़क सुरक्षा सप्ताह (6-12 मई) के दौरान सड़क दुर्घटना के संदर्भ में एक रिपोर्ट पेश की। इस रिपोर्ट के अनुसार वैश्विक स्तर पर सड़क दुर्घटनाओं में प्रतिवर्ष 1.35 मिलियन से अधिक लोगों की मृत्यु हो जाती है। और प्रतिवर्ष 50 मिलियन से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल होते हैं रिपोर्ट में बताया गया कि 5 से 29 वर्ष की आयु के बच्चों की मौत का एक प्रमुख कारण सड़क हादसों में लगी चोट है। इस रिपोर्ट में पता चलता है कि कुछ मध्यम और उच्च आय वाले देशों में मौजूद सड़क सुरक्षा प्रयासों के कारण स्थिति में कमी आई है।

इसी तरह 'सेव लाइफ फाउंडेशन' के आंकड़ों के अनुसार भारत में सड़क दुर्घटना में पिछले 10 सालों में 13,81,314 लोगों की मौत और 50,30,707 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं देश में हर 3.5 मिनट में एक व्यक्ति की मौत सड़क दुर्घटना में हो जाती है।

ऊपर बताए आंकड़ों के हिसाब से आप ही बताइए कि घातक कोरोना है या हम हम चाहे तो रोड एक्सीडेंट को रोक सकते हैं ।
ट्रैफिक नियमों का पालन करें, हेलरमेंट पहने, गाड़ी स्पीड से ना चलाएं, दारू पीकर गाड़ी ना चलाएं, किसी भि तरह का नशा है तो गाड़ी को न चलाएं।
सरकार तो अपनी तरफ से उपाय कर रही है हमें भी सरकार का साथ देना चाहिए। आप क्या सोचते हो

हम यह सोच रहे थे कि रोगों से ज्यादा रोड एक्सीडेंट में हमारे जवान भाई मारे जाते हैं। हमें बहुत दु:ख होता है। इसलिए हमें  भी ध्यान देना चाहिए जैसे हमने कोरोना के लिए संघर्ष किया उसी तरह रोड एक्सीडेंट रोकने में भी पूरी मेहनत और नियमों का पालन करना चाहिए है।
और इस पोस्ट को इतना फैलाओ कि सरकार तक पहुंचे और सरकार भी रोड एक्सीडेंट रोकने और जहां से रोड का नक्शा खराब है एक्सीडेंट जैसा रोड है। उसको तोड़कर उसकी जगह दूसरा रोड बनाने में हम और हमारी जनता का सहयोग करें।
                                                            धन्यवाद
Previous
Next Post »