कुछ भी असंभव नहीं हैं।



               हां दोस्तों मैं आपको एक ट्रिक दे रहा हूं अगर आप का हुनर काम करेगा तो यह आपके लिए बहुत ही गुणकारी साबित होगा दोस्तों आप कहीं पर भी इंटरव्यू देने के लिए जाते हो वहां से आपको रिजेक्ट कर दिया जाता है।
और किसी को ले भी लिया जाता हैै, सभी रिजेक्ट नहीं हुआ करते रिजेक्ट होने के बाद हम अपनी किस्मत का रोना रोते रहते हैंं।
उसका मेन कारण यही है कि आप में वह चीज नहीं थी जो होनी चाहिए।
आप अपने दिमाग को सेंटर में रखकर यह सोच लो पूरे आत्मविश्वास के साथ की में यह काम कर सकता हूं एक्स वाई जेड जो भी कर रहे हो उसके लिए यह सोचो कि मैं यह कर सकता हूं असंभव कुछ भी नहीं है दुनिया में हर चीज इंसान की ही बनाई हुई है  हम यह सोच लेंगे यह मेरे से नहीं होता है तो आप बहुत पीछे चले जाओगे आप यही सोचो कि मेरे लिए सब संभव  है मैं सब कुछ कर सकता हूं
अरे वह सब इंटरव्यू में पास हो गए मैं क्यों नहीं  कर सकता  हूं आप जरूर करोगे एक बार आप अपने दिमाग को सेंटर में रखो सेंटर में ले लो और यह सोच लो कि यह मेरे लिए असंभव नहीं है और उस काम में आप अपने आप को पूरी तरह से झोंक दो उसके अंदर घुस जाओ फिर देखो उसका परिणाम निकलेगा आप जरूर कामयाब हो जाओगे
 मैन बात तो यह बताने जा रहा हूं दोस्तों
आप कौन सा काम करते हो उसी काम को आप अपने घर में तैयार करो पहले अगर थोड़ा बहुत खराब भी होगा तो आपका कोई कुछ बिगाड़ नहीं सकेगा पहले घर पर कोशिश करो उससे आपको 40 पर्सेंट तक का एक्स्ट्रा नॉलेज हो जाएगा उदाहरण पर एक ब्लॉग है समझ लो एक ब्लॉग बनाना है।

अब पूरे दिलो दिमाग से पूरा मन लगाकर ब्लॉग बनाने में जुट जाओ आपने पढ़ाई तो कर रखी है कुछ तो नॉलेज है उस नॉलेज को आप  अपने अंदर ढूंढो और सोचा कि मैं यह कर लूंगा
    उदाहरण -जैसे हम घर में बल्ब जलाते हैं वह बल्ब का स्विच ऑन करेंगे तभी तो बल्ब चालू होगा
 वह आप में है लेकिन वह लुप्त है उसको आप अपने अंदर ढूंढो और (आप में जो भी हुनर है उसको चालू करो)
उदाहरण-blog बनाओ आप का दिमाग  पूरी तरह रिफ्रेश होगा और आपको पूरा नॉलेज होगा कि यह काम तो आसानी से कर सकते हैं उस दिन आपको महसूस भी होगा कि मैं इंटरव्यू में क्यों फेल हुआ था अब आप कभी अपनी किस्मत का रोना नहीं रोवोगे।

ज्यादा नॉलेज हो जाएगा अगर आपको 50 परसेंट मालूम है तो आप  अपने नॉलेज से काम करोगे (एक्स वाई जेड जो भी)  आपको 90 परसेंट   फर्क महसूस होगा आप करके देखो दोस्तों मैं झूठ नहीं बोल रहा हूं आप एक बार अपना खुद का काम बनाओ उसमें आप अपने आप को पूरा झोंक दो तो फिर आप परिणाम देखो  क्या होगा।

सफलता कौन प्राप्त कर सकता है ?
अस्तित्व में मौजूद हर वस्तु में ऊर्जा है। मनुष्य के भीतर भी ऊर्जा का असीम स्रोत है, लेकिन वह कभी यह विश्वास नहीं कर पाता है कि ऐसी अद्भुत और विलक्षण ऊर्जा उसके भीतर निहित है। मनुष्य अगर ठान ले, तो इस ऊर्जा की बदौलत कुछ भी कर सकता है। मनुष्य अपनी ऊर्जा को हर जगह खोजता है, लेकिन अपने भीतर झांककर नहीं देखता। वह हथेलियों से अपनी आंखें ढककर अंधकार की शिकायत जरूर करता है, लेकिन अपने भीतर नहीं झांकता।
मनुष्य के लिए कुछ भी असंभव नहीं है, लेकिन दुख की बात है कि उसे स्वयं पर ही विश्वास नहीं होता कि उसके भीतर इतनी शक्तियां विद्यमान हैं। यदि मनुष्य अपनी मन की गहराइयों में जाए तो वह अपनी शक्तियों को पहचानकर और उनका इस्तेमाल करके असंभव कार्य को भी संभव कर सकता है। जो व्यक्ति अपनी भीतरी ऊर्जा से आत्मसात हुए वे भविष्य में महापुरुष व युगपुरुष कहलाए। दृढ़ आत्मविश्वासी मनुष्य का हर कार्य सफल होता जाता है। जैसे-जैसे मनुष्य को सफलता मिलती जाती है उसका विश्वास और दृढ़ होता चला जाता है। आत्मविश्वास के कारण ही मनुष्य के चरित्र-बल को शक्ति मिलती है। कुछ लोग अपने आत्मविश्वास को जाग्रत करके कार्य शुरू जरूर कर देते हैं, लेकिन मार्ग में आने वाली छोटी-छोटी बाधाओं से घबराकर वे कार्य को बीच में ही छोड़ देते हैं। इसके विपरीत दृढ़ आत्मविश्वासी लोग आशंका व भय से घबराए बगैर आशा और विश्वास के जरिये पूरे मनोयोग से कार्य को करते हैं और अंतत: सफलता प्राप्त करते हैं।
कार्य के असफल होने का भय मध्यम श्रेणी के व्यक्ति पर इस तरह हावी होने लगता है कि उसका आत्मविश्वास डगमगा जाता है और वे बीच रास्ते से भाग खड़े होते हैं। इसके विपरीत उत्तम श्रेणी के व्यक्ति कार्य की सिद्धि तक अपनी सकारात्मक ऊर्जा को बनाए रखते हैं। राह में कितनी ही बाधाएं क्यों न आएं, उनका आत्मविश्वास बिल्कुल नहीं डगमगाता और अंतत: वे कार्य को पूर्ण करके ही दम लेते हैं। आत्मविश्वास से हमें जीवनी-शक्ति मिलती ही है, साथ ही जीने के लिए ऊर्जा भी प्राप्त होती है। जिस व्यक्ति का आत्मविश्वास दृढ़ होता है, वह कठिन से कठिन काम को भी पूरा कर सकता है। सफलता की पहली शर्त आत्मविश्वास है।

आगे आप बोलोगे यार एक बंदे ने एक पोस्ट भेजी थी उसके थ्रू हमने यह सब चालू किया हमें कामयाबी मिली दोस्तों हम भी यही चाहते हैं कि कोई भी बंदा पीछे नहीं रहे आगे बढ़ते रहे हमारा पोस्ट लिखने का यही मकसद रहता है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा जानकारियां मिले और लोग ज्यादा से ज्यादा हमसे जुड़ते रहे उनको भी मालूम होता है कि मार्केट में क्या चल रहा है नई चीजें क्या आ रही है।

    मैन बात होती हैै हमारा आत्मविश्वास, ऊर्जा और अनुभव कि अब आपको यह मालूम नहीं था कि हम blog बनाएंगे तो हमारा  अनुभव बढ़ेगा आप तो यह सोच लिया कि हम पढ़ाई कर लि हम को यह मालूम है हम वहां पर पास हो जाएंगे लेकिन आपको वहां से रिजेक्ट कर दिया।
  उसका मैन उद्देश्य यही था कि आप को नॉलेज है लेकिन आप वह नहीं कर सकते हो वह नहीं बता सकते हो जो आपको करना या बताना चाहिए। क्योंकि न तो आपके पास आत्मविश्वास थाा, ना ही ऊर्जा थी दोस्त मैं आपको बार-बार यही बोलूंगा कि आप एक बार अपने आत्मविश्वाास और अपनी ऊर्जा केे साथ अपना खुद का काम स्टार्ट करो अपने अनुुभव के साथ आपको जो भी आता हैै। ब्लॉक का टॉपिक तो मैंने इसलिए लिया है कि भाई आपको समझा पाऊं उदाहरण के लिए लिया थाा, आपको जो भी नॉलेज है, जिस चीज का है वही करो। 
दोस्तो मेरा पोस्ट आपको कैसा लगा कॉमेंट में जरूर बताना अच्छा लगा तो शेयर करना ना भूलें। धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।
Previous
Next Post »